मुझे शादीशुदा मर्द संग चुदना है

Spread the love

[ A+ ] /[ A- ]

Font Size » Large | Small


Kamukta, desi kahani, antarvasna:

Mujhe shadishuda mard sang chudna hai हर दिन दिन सुबह मॉर्निंग वॉक पर जाना मेरे लिए बहुत जरूरी होता था मैं कभी भी मॉर्निंग वॉक पर जाना भूलता नहीं था और जब मैं पार्क में बैठा रहता तो मुझे कई सारे नए चेहरे हर रोज दिखाई देते थे मैं पार्क में हर रोज एक घंटे तक समय बिताया करता। मुझे बहुत अच्छा लगता था कि जिस प्रकार से मैं पार्क में जाया करता था सुबह के वक्त बहुत सुकून मिलता है और जब मैं घर लौटा दो मेरी पत्नी मेरे लिए नाश्ता बना रही थी और बच्चे स्कूल जा चुके होते थे। मेरी पत्नी मनीषा घर का ध्यान बड़े अच्छे से रखती है हम लोगों की शादी को 12 वर्ष हो चुके हैं और इन 12 वर्षों में मनीषा ने घर की जिम्मेदारी को बखूबी निभाया है। मेरे मम्मी पापा को मनीषा से कभी कोई शिकायत नहीं रही और वह हमेशा से ही मनीषा की बड़ी तारीफ करते हैं मुझे इस बात की खुशी है कि मनीषा जैसी अच्छी पत्नी मुझे मिल सखी मैं बहुत ही खुश हूं। जब भी मैं अपने ऑफिस में होता तो अपने पुराने दिन मैं जरूर याद किया करता पुराने दिनों को याद कर के मुझे अच्छा लगता है और हमेशा ही मैं यही सोचता कि कैसे हम लोग कॉलेज में मस्ती किया करते थे।

मुझे अपने दोस्त की याद अभी तक आती है और मेरे दिल में अभी तक मेरे दोस्तों की यादें ताजा है मेरा दोस्त अंकित जो कि हमारे कॉलेज में सबसे शरारती हुआ करता था अब वह मुझे मिलता है तो वह पूरी तरीके से बदल चुका है। अंकित अपनी जिम्मेदारियों में ही उलझा हुआ है लेकिन अभी भी अंकित मुझसे संपर्क में हैं और मेरी बातचीत अंकित से होती रहती है मैं और अंकित एक दूसरे को हमेशा ही फोन करते हैं। अंकित ने मुझे एक दिन फोन किया और कहा कि मुझे तुमसे मिलना है तो मैंने अंकित को कहा ठीक है मैं तुमसे मिलने के लिए आता हूं मैं अंकित से मिलने के लिए गया तो अंकित काफी परेशान नजर आ रहा था। मैंने अंकित को उसकी परेशानी का कारण पूछा तो अंकित ने मुझे बताया कि उसकी परेशानी का मुख्य कारण उसकी पत्नी और उसके बीच के झगड़े हैं मैंने अंकित से कहा लेकिन तुम्हारी पत्नी और तुम्हारे बीच तो बहुत प्यार था। अंकित कहने लगा कि शादी को इतने वर्ष हो चुके हैं लेकिन अब मुझे नहीं लगता कि मेरी पत्नी मुझसे प्यार करती है वह पूरी तरीके से बदल चुकी है और यदि उससे मैं कुछ भी कहता हूं तो वह मुझे कहती है कि मैं घर छोड़ कर चली जाऊंगी।

loading...

अंकित और उसकी पत्नी निधि ने लव मैरिज की थी लेकिन उन दोनों की शादी शुदा जिंदगी बिल्कुल ठीक नहीं चल रही थी मैंने अंकित को कहा कि तुम चिंता ना करो सब कुछ ठीक हो जाएगा इतनी परेशानी की कोई बात नहीं है। अंकित मुझे कहने लगा कि हां तुम बिल्कुल ठीक कह रहे हो कोशिश तो मैं भी कर रहा हूं कि सब कुछ ठीक हो जाए लेकिन फिलहाल मुझे कोई उम्मीद नजर नहीं आ रही है कि सब कुछ ठीक होने वाला है। मैंने अंकित को कहा यदि तुम्हें और कोई परेशानी है तो तुम मुझे बताओ अंकित कहने लगा निधि के साथ मेरा रिलेशन बिल्कुल भी अच्छा नहीं चल पा रहा है यदि तुम निधि से इस बारे में बात करो तो क्या पता वह तुम्हारी बात मान ले। मुझे भी लगा कि मुझे अंकित की मदद करनी चाहिए और मैंने निधि से इस बारे में बात की जब मैंने निधि से इस बारे में बात की तो निधि ने मुझे बताया कि अंकित बहुत ही ज्यादा बदल चुका है और अब वह पहले जैसा नहीं है। मैंने निधि को कहा निधि उसके ऊपर घर की जिम्मेदारियां हैं और तुम तो जानती ही हो कि अंकित शायद अब पहले जैसा तो नहीं है लेकिन वह दिल का बहुत अच्छा है और उसे इस बात की तकलीफ है कि तुम उससे अच्छे से बात नहीं करती हो और तुम दोनों के रिश्ते में अब दरार आ चुकी है। निधि ने मुझे कहा राहुल ऐसा कुछ भी नहीं है मैं तो हमेशा से ही अंकित को बहुत प्यार करती हूं और मुझे लगता है कि हम दोनों के बीच सब कुछ ठीक है परंतु अंकित अपने दिल पर बातों को ले लिया करता था जिस वजह से मुझे भी कई बार लगता कि शायद अंकित के अंदर बहुत बदलाव आ चुका है। उसके बाद मैंने अंकित को समझाया और कहा देखो अंकित तुम्हें अब अपने आप को बदलना चाहिए तुम जैसे पहले थे तुम यदि वैसे ही निधि के साथ व्यवहार करोगे तो शायद तुम्हारे और निधि के बीच में सब कुछ ठीक रहेगा लेकिन तुम्हें अब अपने आप को बदलना पड़ेगा। अंकित शायद बहुत बदल चुका था यह बात निधि को बिल्कुल पसंद नहीं थी और मैंने अंकित को समझाया तो अंकित ने अपने आप को बदलने की कोशिश की।

अंकित शायद अब बदल भी चुका था मुझे इस बात की खुशी थी कि अंकित बदल चुका है उसके और निधि के बीच में अब सब कुछ सामान्य हो गया है इसी बीच ऑफिस में मेरा प्रमोशन भी हो गया। जब मेरा प्रमोशन हुआ तो मैंने सोचा कि क्यों ना अपने दोस्तों को घर पर पार्टी के लिए इनवाइट करूं मैंने एक छोटी सी पार्टी घर पर रखी और जब मेरे दोस्त और मेरे कुछ रिश्तेदार आए तो उन्होंने मुझे बधाइयां दी। मैं इस बात से बहुत खुश था कि मेरा प्रमोशन हो चुका है मेरी जिंदगी बड़े ही अच्छे तरीके से चल रही थी लेकिन ऑफिस में अब मेरे ऊपर कुछ ज्यादा ही जिम्मेदारी आने लगी थी। ऑफिस का काम कुछ ज्यादा रहता था और बॉस को मुझसे बड़ी उम्मीदें रहती थी बॉस चाहते थे कि मैं अपना 100% दूं और मैं पूरी कोशिश करता कि मैं अपने काम में अपना 100% दूं लेकिन उसके बावजूद भी कहीं ना कहीं कोई कमी तो रह ही जाती थी। मुझे भी अपने लिए थोड़ा वक्त चाहिए था तो मैंने कुछ दिनों के लिए ऑफिस से छुट्टी ले ली मैं चाहता था कि मनीषा और बच्चों के साथ थोड़ा समय बिताऊं इसलिए मैं घर पर ही था।

मैं मनीषा और बच्चों के साथ कुछ समय बिता रहा था मुझे भी अच्छा लग रहा था क्योंकि ऑफिस की जिम्मेदारियों से थोड़े समय के लिए ही सही लेकिन मुझे आराम मिला था और मैं पूरी कोशिश कर रहा था कि कम से कम मैं बच्चों और मनीषा को समय दे पा रहा हूं। जब मैं ऑफिस गया तो मेरे बॉस ने मुझे कहा कि राहुल तुम्हें कुछ दिनों के लिए चेन्नई जाना पड़ेगा तो मैंने बॉस से कहा ठीक है सर मैं चेन्नई चला जाऊंगा। मैं कुछ दिनों के लिए चेन्नई चला गया जब मैं चेन्नई पहुंचा तो वहां पर हमारी एक विशेष मीटिंग होने वाली थी और मेरे बॉस चाहते थे कि उस मीटिंग को मैं ही अटेंड करूं। मीटिंग हो चुकी थी और सब कुछ ठीक रहा बॉस का मुझे फोन आया और उन्होंने मुझसे पूछा कि राहुल मीटिंग कैसी रही तो मैंने उन्हें कहा सर मीटिंग तो अच्छी रही और मुझे लगता है कि वह कॉन्ट्रैक्ट भी हमें मिल ही जाएगा। बॉस इस बात से खुश हो गये और फिर मैं वापस मुंबई के लिए लौट चुका था। मैं वापस मुंबई लौट चुका था और हमारे ऑफिस में काम करने वाले रिसेप्शनिस्ट मीनाक्षी की नजरे मुझे कुछ ठीक नहीं लगती थी वह मुझे जब भी देखती तो मुझे ऐसा लगता कि जैसे वह मुझ पर डोरे डालने की कोशिश कर रही है। मैंने भी मीनाक्षी से जब इस बारे में बात की तो मीनाक्षी मुझसे बड़े ही अच्छे से बात किया करती और वह चाहती थी कि हम दोनों अकेले में मिले। मैं भी चाहता था कि अपने जीवन में कुछ नया करू क्योंकि शादी के इतने वर्ष हो जाने के बाद मुझे मीनाक्षी जैसी लड़की मिल रही थी और मुझे नहीं पता था कि वह एकदम कमसिन और टाइट माल है मैं मीनाक्षी के साथ डेट पर जाने लगा। जब हम लोग एक दूसरे को डेट करते तो हम दोनों को अच्छा लगता मीनाक्षी को मेरी शादी शुदा जिंदगी से कोई आपत्ति नहीं थी मैंने जब उसे इस बारे में पूछा तो मीनाक्षी ने मुझे कहा कि मुझे किसी शादीशुदा मर्द के साथ सेक्स करना है।

loading...

यह बात सुनकर मुझे बड़ी हैरानी हुई मैं मीनाक्षी को एक दिन होटल के कमरे में ले गया जब वह मेरे गोद में आकर बैठी तो मेरा लंड एकदम से तन कर खड़ा हो चुका था वह मीनाक्षी की चूत में जाने के लिए तैयार था। मैंने भी सोच लिया था कि मैं आज मीनाक्षी की चूत का मजा अच्छा से लेकर रहूंगा जिस प्रकार से मीनाक्षी ने मेरे लंड को सकिंग किया उसने मेरे लंड को पूरी तरीके से चिकना बना दिया। मैंने अपने लंड को मीनाक्षी की चूत पर लगाकर रगड़ना शुरू किया तो उसे भी मजा आने लगा और उसकी चूत से पानी बाहर की तरफ निकल रहा था। मैंने धक्का देते हुए उसकी चूत के अंदर अपने लंड को प्रवेश करवा दिया जैसे ही मीनाक्षी की चूत के अंदर मेरा लंड प्रवेश हुआ तो वह चिल्ला उठी उसकी कोमल और मुलायम चूत से खून बाहर की तरफ निकलने लगा था। मैं उसे लगातार तेज गति से धक्के मार रहा था मीनाक्षी ने अपने दोनों पैरों को चौडा कर लिया था ताकि वह मेरे साथ सेक्स का मजा ले सकें। मीनाक्षी मुझे कहने लगी मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है जिस प्रकार से मैंने मीनाक्षी की चूत का भोसड़ा बनाया उससे वह खुश हो चुकी थी और उसकी चूत से लगातार खून बाहर की तरफ को बह रहा था।

मेरा लंड पूरी तरीके से कठोर हो चुका था और मेरा लंड आसनी से मीनाक्षी की चूत के अंदर जाने के लिए तैयार था मेरा वीर्य पतन जैसे ही हुआ तो मुझे बहुत अच्छा लगा। मीनाक्षी की चूत के अंदर मेरा वीर्य गिर चुका था लेकिन मेरा लंड दोबारा से कड़क हो गया और मैंने मीनाक्षी को घोड़ी बनाते हुए दोबारा से अपने लंड को उसकी चूत के अंदर प्रवेश करवाया। जैसे ही मीनाक्षी की चूत के अंदर मेरा लंड घुसा तो मुझे बहुत मजा आया और मीनाक्षी को भी अच्छा लगा मीनाक्षी ने मेरे साथ बहुत अच्छे से दिया था और उसने बहुत मजे किए मुझे भी इस बात की खुशी हुई। मैं मीनाक्षी के साथ काफी देर तक संभोग का आनंद ले पाया जैसे ही मेरा वीर्य पतन दोबारा मीनाक्षी की चूत के अंदर हुआ तो वह खुश हो गई और उसके बाद तो मेरा जब भी मन होता तो मैं मीनाक्षी को अपने साथ होटल के रूम में ले जाता और उसके साथ संभोग किया करता।


Comments are closed.


Spread the love

3 thoughts on “मुझे शादीशुदा मर्द संग चुदना है”

  1. My developer is trying to persuade me to move to .net
    from PHP. I have always disliked the idea because of the costs.
    But he’s tryiong none the less. I’ve been using Movable-type on various websites for
    about a year and am worried about switching to another platform.
    I have heard great things about blogengine.net.
    Is there a way I can transfer all my wordpress posts into it?
    Any help would be greatly appreciated!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *