माल चूत के अंदर चला गया

Spread the love

[ A+ ] /[ A- ]

Font Size » Large | Small


Antarvasna, hindi sex stories:

Maal chut ke andar chala gaya मेरा ट्रांसफर मुंबई हो चुका था मैं बैंक में नौकरी करता हूं और मैं जब मुंबई गया तो मेरे लिए एडजेस्ट करना थोड़ा मुश्किल था लेकिन सब कुछ समय के साथ ठीक होने लगा और मैं काफी खुश था। एक बार मैं मुंबई से अहमदाबाद का सफर कर रहा था उस दिन मैं अपने घर जा रहा था उसी ट्रेन में मेरे सामने एक लड़की बैठी हुई थी जो मुंबई से अहमदाबाद जा रही थी। काफी देर तक तो हम दोनों की बातें नहीं हुई लेकिन फिर अचानक से वह फोन पर बातें करने लगी और उसका मूड बहुत ज्यादा खराब था वह काफी गुस्से में थी। मैं काफी देर तक तो उसे देखता ही रहा लेकिन फिर मुझे लगा कि शायद यह ठीक नहीं है इसलिए मैं  कुछ देर के लिए लेट गया। थोड़ी देर बाद मैंने देखा कि वह बहुत ज्यादा रोने लगी। आसपास सब लोग उस वक्त सोए हुए थे इसलिए मुझे यह सब ठीक नहीं लगा मैं सोचने लगा कि वह रो क्यों रही है।

मैंने उससे पूछने की हिम्मत की और जब मैंने उससे बात की तो उसने मुझे बताया कि उसके परिवार वाले उसकी शादी जबरदस्ती करवा रहे है। मैंने उसे समझाया और कहा कि देखो तुम हिम्मत रखो सब कुछ ठीक हो जाएगा। मैंने उस लड़की से उसका नाम पूछा तो उसने मुझे अपना नाम बताया उसका नाम काजल है। काजल से बात कर के मुझे काफी अच्छा लगा और हम दोनों एक दूसरे से काफी बातें करने लगे। कहीं ना कहीं काजल को भी मुझसे बातें कर के अब अच्छा लगने लगा था वह भी काफी खुश हो रही थी। मैंने काजल से कहा कि तुम्हारे जीवन में सब कुछ ठीक हो जाएगा। जब सुबह के वक्त अहमदाबाद स्टेशन पर हम लोग पहुंचे तो मैंने काजल को कहा कि क्या मैं तुम्हें तुम्हारे घर तक छोड़ दूं। काजल कहने लगी नहीं मैं चली जाऊंगी लेकिन मैंने उसे उस दिन उसके घर तक ड्राप कर दिया था और उसके बाद मैं अपने घर लौट आया। जब मैं घर पहुंचा तो मम्मी पापा बड़े खुश थे वह लोग कहने लगे की तुम कितने लंबे समय बाद घर आ रहे हो।

loading...

जब से मैं मुंबई में हूँ तब से मैं पहली बार ही घर आया था मैंने मां को कहा कि मां ऑफिस में काफी ज्यादा काम रहता है इस वजह से मैं छुट्टी नहीं ले पाता हूं। बैंक में बहुत ज्यादा काम होता है इसलिए मैं काफी समय से घर नहीं गया था लेकिन अब मैं कुछ दिनों तक घर पर ही रुकने वाला था जिससे कि मैं बड़ा ही खुश था और पापा मम्मी भी बहुत ज्यादा खुश थे। उस दिन मैंने पापा और मम्मी के साथ घूमने के बारे में मन बनाया तो मैंने जब इस बारे में पापा से कहा तो पापा ने कहा कि हां बेटा वैसे भी कल मेरी छुट्टी है आज हम लोग कहीं घूमने के लिए चलते हैं। हम लोग उस दिन हमारे घर के पास ही मॉल में चले गए वहां पर हम लोगों ने कुछ शॉपिंग भी की फिर हम लोग वहां से वापस लौट आए। जब हम लोगों ने वहां शॉपिंग की तो मुझे काफी ज्यादा अच्छा लगा उसके बाद हम लोग वापस लौट आए। जब हम लोग वापस लौटे तो पापा मुझे कहने लगे कि बेटा तुम कितने दिनों तक घर पर रुकने वाले हो तो मैंने पापा से कहा कि पापा मैं इस बारे में तो कुछ बता नही सकता हूं लेकिन कुछ दिनों तक मैं घर पर जरूर रुकूँगा।

पापा ने कहा कि ठीक है बेटा और उसके बाद मैं कुछ दिनों तक घर पर ही रुका फिर मैं वापस मुंबई लौट आया था। मुम्बई लौटने के बाद मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि काजल से मेरी मुलाकात हो जाएगी। एक दिन काजल से मेरी मुलाकात हुई पहले तो मुझे लगा कि शायद मुझे काजल पहचान नहीं पाएगी। वह काफी खुश नजर आ रही थी मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि काजल से मेरी मुलाकात हो जाएगी लेकिन यह भी एक अजीब इत्तेफाक था कि काजल से मेरी मुलाकात हो गई। मैंने काजल को कहा कि चलो हम लोग कहीं बैठते हैं क्योंकि हम दोनों की मुलाकात उस दिन रेलवे स्टेशन पर हुई थी तो हम दोनों उस दिन कॉफी शॉप में बैठ गए। जब हम लोग कॉफी शॉप में बैठे तो हम लोगों को बड़ा ही अच्छा लग रहा था हम दोनों ने एक दूसरे से काफी बातें की। हम दोनों एक दूसरे से बात कर रहे थे तो मैंने काजल से पूछा कि तुम मुंबई क्या किसी काम से आई हुई हो तो वह मुझे कहने लगी कि नहीं मैं मुंबई में ही जॉब कर रही हूं। मैंने काजल से कहा कि तुम्हारी शादी का क्या हुआ काजल ने मुझे कहा कि मैंने अपनी फैमिली को मना लिया और उन लोगों ने मुझे मुंबई जॉब करने के लिए भेज दिया है।

मैंने काजल को कहा चलो यह तो बड़ी अच्छी बात है कि तुमने अपनी फैमिली को मना लिया है। काजल मुझे कहने लगी कि यह सब तुम्हारी वजह से ही हो पाया है अगर तुम मुझे हिम्मत नहीं देते तो शायद मैं अपनी फैमिली से इस बारे में कभी बात नहीं कर पाती लेकिन तुम्हारी वजह से मैं अपनी फैमिली में बात कर पाई और मेरी शादी उन्होंने कैंसिल करवा दी। पायल के चेहरे की खुशी देखकर मुझे काफी ज्यादा अच्छा लगा मैंने उसे कहा कि चलो यह तो बड़ी अच्छी बात है जिस तरीके से तुम्हारे जीवन में खुशियां लौट आई है। काजल ने मेरे साथ में काफी अच्छा समय बिताया हालांकि अब काजल मुझे कहने लगी कि मैं जा रही हूं लेकिन मैंने काजल को कहा कि तुम मुझे अपना नंबर दे दो यदि मुझे तुमसे बात करनी हो तो कम से कम मैं तुमसे बात तो कर पाऊंगा। काजल ने मुझे अपना कांटेक्ट नंबर दे दिया और वह वहां से चली गई मुझे इस बात की खुशी थी कि काजल अब अपनी जिंदगी अच्छे से जी पा रही है और वह मुंबई में भी रहने लगी है। हम दोनों की एक दूसरे से फोन पर बातें होती थी और मैं कभी कबार काजल को मिल भी लिया करता था। जब भी मुझे मौका मिलता तो मैं काजल को जरूर मिल लिया करता था और मुझे उससे मिलने में काफी अच्छा लगता और काजल को भी मुझसे मिलकर बहुत ही अच्छा लगता। मैं और काजल एक दूसरे के साथ बहुत ही ज्यादा खुशी थे क्योंकि हम दोनों को जब भी मौका मिलता तो हम दोनों एक दूसरे के साथ में समय बिता लिया करते।

loading...

मुझे बहुत ही अच्छा लगता था जब मैं काजल के साथ में होता। एक दिन काजल मुझसे मिलने के लिए मेरे फ्लैट में आई हुई थी। यह पहली बार ही था जब वह मुझसे मिलने के लिए मेरे फ्लैट में आई हुई थी लेकिन मुझे नहीं मालूम था उस दिन काजल और मेरे बीच में किस हो जाएगा। काजल को जब मैंने किस किया तो वह अपने आपको रोक नहीं पाई उसके अंदर की गर्मी बाहर की तरफ को निकलने लगी थी।

वह बहुत ही अधिक गर्म हो चुकी थी वह मेरी गर्मी बढाने की कोशिश करने लगी। मैंने काजल को बिस्तर पर लेटा दिया था और जब मैंने उसे बिस्तर पर लेटाया तो मै उसके नरम होंठों को चूसने लगा। मुझे बड़ा ही अच्छा लग रहा था जिस तरीके से मैं उसके होठों को चूम रहा था। मैंने अपने लंड को बाहर निकाला और काजल के सामने किया। काजल मेरे लंड को देखकर खुश हो गई वह उसे अपने हाथों में लेकर हिलाने लगी। वह मेरे लंड को अपने हाथों में लेकर हिलाए जा रही थी जिस तरीके से वह मेरे लंड को हिलाती मेरी गर्मी पूरी तरीके से बाहर आने के लिए तैयार थी और काजल ने उसे अपने मुंह मे ले लिया।

काजल ने मेरे लंड को अपने मुंह में ले लिया वह मेरे लंड को तब तक चूहती रही जब तक उसे मजा नहीं आ गया। मुझे बहुत ही ज्यादा अच्छा लग रहा था जिस तरीके से वह मेरे लंड को सकिंग कर रही थी वह मेरी गर्मी को बढाए जा रही थी। उसने मेरी गर्मी को काफी ज्यादा बढ़ा दिया था। वह मुझे कहने लगी मुझे बड़ा अच्छा लग रहा है मैं उसकी चूत के अंदर बाहर अपने लंड को कर रहा था मेरी गर्मी को वह बढाए जा रही थी। मैंने अब उसे और भी तेज गति से धक्के देने शुरू कर दिए थे वह जोर से सिसकारियां लेकर मुझे कहती मुझे और तेजी से चोदते जाओ। काजल की चूत से पानी बाहर आने लगा था वह कहीं ना कहीं मुझसे दिल ही दिल प्यार भी करने लगी थी।

वह मुझे कहने लगे मैं तुमसे प्यार करने लगी हूं। यह बात सुनकर मेरे अंदर का जोश और भी बढ गया था। मैं उसे बड़ी तेज गति से धक्के मारने लगा था मैं उसे जिस तेज गति से चोद रहा था उसका शरीर हिलता जा रहा था। वह मुझे कहने लगी मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है मैंने उसे काफी देर तक ऐसे ही चोदा लेकिन जब मेरा वीर्य बाहर की तरफ को निकलने लगा था। मैंने उसे कहा अब मैं ज्यादा देर तक तुम्हारा साथ नहीं दे पाऊंगा मैंने अपने वीर्य की पिचकारी से काजल की योनि को नहला दिया। काजल बड़ी खुश हो गई थी। काजल कहां मानने वाली थी उसको तो दोबारा से मेरे साथ सेक्स करना था। उसने मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर दोबारा से सकिंग करना शुरू किया वह मेरे लंड को बड़े अच्छे से चूसने लगी जिस तरीके से वह मेरे लंड को सकिंग कर रही थी उससे मुझे मजा आने लगा था और काजल को भी बड़ा अच्छा लग रहा था। वह मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर उसे सकिंग कर रही थी हम दोनों की गर्मी बढ़ती जा रही थी।

हम दोनों पूरी तरीके से गर्म हो गए थे जिस तरीके से मैंने काजल के साथ में सेक्स किया उससे वह बड़ी खुशी थी। मैंने काजल से कहा तुम अपनी  चूतडो को मेरी तरफ कर लो। काजल ने अपनी चूतडो को मेरी तरफ कर लिया था जब मैंने उसकी चूत के अंदर अपने लंड को किया तो वह गर्म होने लगी मैं उसे बड़ी तेज गति से चोदने लगा। मैं उसे जिस तरीके से धक्के दे रहा था उससे मुझे मजा आ रहा था। हम दोनों बहुत ही अच्छे से एक दूसरे के साथ सेक्स कर रहे थे मैंने उसकी योनि के अंदर अपने माल को गिरा दिया था। उसकी चूत मे मैं माल गिराकर खुश हो गया था और मुझे बहुत ही अच्छा लगा उसकी योनि में जब मेरा माल गिर चुका था।


Comments are closed.


Spread the love

One thought on “माल चूत के अंदर चला गया”

Comments are closed.