मोनिका की बढती गर्मी

Spread the love

[ A+ ] /[ A- ]

Font Size » Large | Small


मोनिका की बढती गर्मी

Antarvasna, hindi sex story:

Monika ki badhti garmi मेरा नाम मनीष है और मैं स्कूल में टीचर हूं मैं जिस स्कूल में पढ़ाता हूं उस स्कूल से मेरा घर ज्यादा दूर नहीं है। मैं एक दिन स्कूल से वापस लौटा तो उस दिन पापा घर पर ही थे। जब मैं घर लौटा तो पापा मुझे कहने लगे कि बेटा तुम मेरे साथ चलो। मैंने पापा से कहा कि पापा कहां चलना है तो पापा ने मुझे कहा कि मैं अपने दोस्त के घर जा रहा हूं। मैंने भी पापा से कहा कि ठीक है और मैं उस दिन पापा के साथ चला गया। पापा जल्द ही रिटायर होने वाले हैं और उस दिन वह अपने दोस्त से मिलने के लिए गए थे मैं भी उनके साथ गया था। जब हम वहां से लौटे तो मैंने पापा से पूछा कि पापा आप कब रिटायर हो रहे है तो पापा ने कहा कि मैं बस अगले महीने रिटायर हो रहा हूं। इतने वर्षों तक पापा ने अपनी नौकरी की और कुछ ही समय मे वह रिटायर होने वाले थे। मैं पापा से बातें कर रहा था और उसके बाद मैं अपने रूम में चला गया और मां रसोई में खाना बना रही थी।

खाना तैयार हो गया तो मां ने मुझे आवाज देते हुए कहा कि मनीष बेटा खाना खाने आ जाओ। मैं भी खाना खाने के लिए चला गया। हम सब लोग डायनिंग टेबल पर बैठे हुए खाना खा रहे थे तभी पापा ने मुझसे कहा कि बेटा काफी दिन हो गये है राधिका से बात नहीं हुई है। मैंने पापा से कहा कि पापा मेरी भी काफी दिनों से राधिका से बात नहीं हुई है। मैंने पापा को कहा कि पापा वैसे भी कुछ दिनों बाद स्कूल की छुट्टी है और आप भी रिटायर हो रहे हैं तो क्यों ना हम लोग साथ में कहीं घूमने के लिए जाएं। पापा ने कहा कि हां मनीष यह ठीक रहेगा। अगले दिन पापा ने जब राधिका को फोन किया तो राधिका ने पापा से काफी देर तक बातें की। अगले दिन मैं घर पर ही था राधिका मेरी छोटी बहन है और उसकी शादी को अभी सिर्फ 6 महीने ही हुए हैं। मां ने शायद यह बात राधिका को बता दी थी कि हम लोग कहीं घूमने का प्लान बना रहे हैं तो राधिका का मुझे फोन आया।

loading...

जब राधिका ने मुझे फोन किया तो मैंने राधिका से बात की और उससे कहा कि हम लोग घूमने का प्लान बना रहे हैं। पापा का रिटायरमेंट भी नजदीक आ चुका था और जब पापा रिटायर हो गए तो हम लोगों ने पापा के रिटायरमेंट के लिए एक पार्टी अरेंज की। पापा के रिटायरमेंट की पार्टी काफी अच्छी रही राधिका भी उस दिन आई हुई थी और थोड़े ही दिनों बाद हम लोगों ने घूमने का प्लान बनाया और हम लोग साथ में घूमने के लिए गए। मैं काफी खुश था कि उस दिन हमारा पूरा परिवार साथ में था। पापा ने मुझसे कहा बेटा मैं बहुत खुश हूं और सभी लोग भी काफी खुश थे। हम लोग जयपुर से वापस लौट चुके थे और राधिका भी अपने ससुराल जा चुकी थी।

राधिका से मेरी फोन पर बातें होती ही रहती है राधिका से मेरी बहुत अच्छी बनती है और राधिका भी मुझे अक्सर इस बात के लिए कहती कि भैया आप शादी कर लीजिए। पापा मम्मी भी मुझे हमेशा कहते कि तुम शादी कर लो लेकिन मैं आज भी शायद ममता को अपने दिल से भुला नहीं पाया हूं। ममता मेरे साथ कॉलेज में ही पढ़ा करती थी और हम दोनों एक दूसरे से प्यार करते थे लेकिन किसी वजह से हम दोनों की शादी नहीं हो पाई जिससे कि आज तक मैं हमेशा ही ममता के बारे में सोचता हूं। मेरे दिमाग से ममता का ख्याल कभी निकल ही नहीं पाया है लेकिन अब मुझे भी आगे बढ़ना था। जब मैं राधिका से मिलने के लिए गया हुआ था तो राधिका के घर पर उसके पड़ोस में रहने वाली मोनिका आई हुई थी। मोनिका को देख कर मुझे अच्छा लगा और मोनिका से मेरी उस दिन बात भी हुई।

हालांकि उसके बाद मेरी मोनिका से काफी लंबे समय तक कोई बात नहीं हुई और ना ही मैं उससे मिला था। एक दिन मैं स्कूल से वापस लौट रहा था तो उस दिन मोनिका मुझे मिली। उस दिन जब मोनिका मुझे मिली तो उसने मुझसे बात की मैंने मोनिका से कहा कि चलो यहीं पास में मेरा घर है। मैंने मोनिका को अपने साथ घर में आने के लिए कहा लेकिन मोनिका ने मना कर दिया था और वह उस दिन चली गई। हालांकि उस दिन मोनिका से मैंने उसका नंबर ले लिया था और उस दिन के बाद हम दोनों की मैसेज पर बातें होने लगी थी। मुझे बहुत अच्छा लगता है जब हम लोगों की मैसेज पर बातें होती। मैं और मोनिका एक दूसरे के साथ बहुत ज्यादा खुश होते जब भी हमारी बातें होती। कहीं ना कहीं मेरे दिल में मोनिका को लेकर  वही प्यार जागने लगा था जो कभी ममता के लिए हुआ करता था।

loading...

मैं मोनिका से प्यार करने लगा था और मुझे बहुत ही अच्छा लगता जब भी मोनिका और मैं साथ में होते। हम दोनों एक दूसरे के साथ बहुत खुश हैं और जिस तरीके से हम लोगों का मिलना बढ़ने लगा था उससे मुझे बहुत ही अच्छा लगता और मोनिका को भी बहुत ज्यादा अच्छा लगता। मैंने भी एक दिन मोनिका से फोन पर अपने प्यार का इजहार कर ही दिया। जब मोनिका से मैंने अपने प्यार का इजहार किया तो वह भी बहुत ज्यादा खुश थी और मैं भी बहुत ज्यादा खुश था। जिस तरीके से हम दोनों की जिंदगी चल रही है उससे हम दोनों बहुत खुश हैं क्योंकि मोनिका और मैं अब एक दूसरे के साथ रिलेशन में हैं। मेरी मुलाकात मोनिका से कम ही हो पाती है लेकिन फिर भी हम दोनों के बीच प्यार बहुत ज्यादा है और अब इस प्यार को मैं और आगे बढ़ाना चाहता था। मैं चाहता था कि मोनिका और मैं शादी के बंधन में बंध जाए उसके लिए मैंने अपने परिवार से बात की तो सब लोग इस बात के लिए तैयार थे किसी को भी इससे कोई एतराज नहीं था।

मोनिका भी पापा मम्मी से मिल चुकी थी और राधिका तो मोनिका को अच्छे से जानती है इसलिए अब सब लोग मेरी शादी मोनिका से करवाने के लिए तैयार थे। जब हम दोनों की शादी हुई तो हम दोनों बड़े खुश थे हम दोनों की शादी बड़ी ही धूमधाम से हुई। मैं बहुत खुश हूं जिस तरीके से मेरी शादी हुई हम दोनों एक दूसरे से बहुत ज्यादा प्यार करते हैं। जिस तरीके से हम दोनों का शादीशुदा जीवन चल रहा है उससे मैं बहुत ज्यादा खुश हूं। मोनिका पापा मम्मी की अच्छे से देखभाल किया करती है और घर की जिम्मेदारी को उसने अपने कंधों पर ले लिया। मोनिका जिस तरीके से घर को संभाल रही है वह बहुत ही अच्छा है। मुझे इस बात की खुशी भी है कि मोनिका से मेरी शादी हो पाई। पापा और मम्मी को कुछ दिनों के लिए इंदौर जाना था वह लोग इंदौर चले गए थे। घर पर सिर्फ मोनिका और मैं ही थे उस दिन रविवार का दिन था और मेरी स्कूल की छुट्टी थी।

हम दोनों एक दूसरे के साथ बैठे हुए बातें कर रहे थे उस दिन काफी ज्यादा ठंड होने की वजह से मैंने मोनिका से कहा चलो हम लोग रूम में चलते हैं। हम दोनों रूम में चले आए जब हम दोनों एक दूसरे के साथ बैठे हुए थे तो मुझे अच्छा लग रहा था। मैंने मोनिका की जांघ को सहलना शुरू किया और अपने हाथ को उसके स्तनों पर रखा तो वह गर्म होती चली गई। उसके शरीर की गर्मी बढ़ती जा रही थी मैंने उसे बिस्तर पर लेटा दिया था। मैं उसके स्तनों को दबाने लगा और मैं उसके होठों को चूमकर उसकी गर्मी को बढ़ाता जा रहा था। वह भी गर्म होती जा रही थी और मेरी गर्मी भी बहुत ज्यादा बढ़ती जा रही थी। हम दोनों अब बिल्कुल भी रह नहीं पा रहे थे मैंने जैसे ही अपने लंड को बाहर निकाला तो उसे मोनिका ने अपने मुंह में समा लिया। वह जिस तरीके से मेरे लंड को चूस रही थी उस से मेरे लिए बहुत ही अच्छा था। मेरे लंड से पानी बाहर की तरफ को निकलने लगा था।

मोनिका की गर्मी बढ़ती ही जा रही थी हम दोनों गर्म हो चुके थे। मैंने मोनिका की चूत पर जब अपने लंड को लगाया तो वह मुझे कहने लगी तुम मेरी चूत मे लंड घुसा दो। मैंने मोनिका के दोनों पैरों को चौड़ा किया मोनिका की चूत बहुत ज्यादा गीली हो चुकी थी। मेरा लंड आसानी से उसकी योनि में चला गया था और मोनिका गरम हो चुकी थी। मोनिका के साथ पहली बार सेक्स करना उससे हम लोगों को बहुत ही अच्छा लगा था। मोनिका की चूत से पानी निकालने लगा था।  मोनिका की टाइट चूत मार कर मुझे मजा आ रहा था। मुझे बहुत मज़ा आ रहा था जिस तरीके से मैं मोनिका के दोनों पैरों को अपने कंधे पर रखकर उसकी चूत के अंदर बाहर अपने लंड को किए जा रहा था। वह बहुत ज्यादा खुश थी और मैं भी बहुत ज्यादा खुश था। हम दोनों की गर्मी बढ़ती जा रही है। मैंने मोनिका को तेजी से चोदना शुरू कर दिए था। मोनिका के अंदर की गर्मी बढ़ती जा रही थी और मैं भी बहुत ज्यादा गरम हो चुका था। मैंने जिस तरीके से मोनिका के साथ सेक्स संबध बनाए तो हम दोनो को एक दूसरे के साथ सेक्स संबंध बनाने मे मजा आया। हम दोनों को बहुत ही अच्छा लगा और मेरा वीर्य उसकी चूत के अंदर तक जा चुका था जिससे मोनिका बहुत ही ज्यादा खुश थी। मैं भी बहुत ज्यादा खुश था हम दोनों एक दूसरे की बाहों में लेटे हुए थे और दूसरे से बातें कर रहे थे। मेरा लंड मुरझा चुका था। मोनिका की चूत से मेरा वीर्य बाहर की तरफ को निकल रहा था।


Comments are closed.


Spread the love