जांघ पर हाथ रखते ही बोली चोदो मुझे

Spread the love

[ A+ ] /[ A- ]

Font Size » Large | Small


Antarvasna, sex stories in hindi:

Jaangh par hath rakhte hi boli chodo mujhe सुबह के वक्त रोहित का फोन मुझे आता है और रोहित मुझे कहता है कि अविनाश मम्मी की तबीयत बहुत खराब है तो क्या तुम घर पर आ सकते हो। मैंने रोहित को कहा बस रोहित थोड़ी देर बाद आता हूं मैं जल्दी से रोहित के घर गया और रोहित से कहा कि क्या हुआ। रोहित ने मुझे सारी बात बताई और कहने लगा कि मां को अचानक से चक्कर आ गया और उसके बाद वह गिर पड़ी मैंने रोहित को कहा चलो फिर हम आंटी को अभी अस्पताल लेकर चलते हैं। हम लोग आंटी को अस्पताल लेकर गए डॉक्टर ने बताया कि आप चिंता मत कीजिए वह थोड़ी देर बाद ठीक हो जाएंगी। दरअसल रोहित की मम्मी का ब्लड प्रेशर लो हो गया था जिस कारण से वह चक्कर खाकर गिर पड़ी थी लेकिन रोहित बहुत ही ज्यादा चिंतित हो गया था मैंने रोहित को समझाया और कहा रोहित तुम चिंता मत करो सब ठीक हो जाएगा। हम लोग आंटी को अपने साथ घर ले आए थे रोहित का उनके सिवा इस दुनिया में और कोई है भी तो नहीं, रोहित के पिताजी काफी वर्ष पहले रोहित की मां को तलाक देकर अलग रहने लगे।

रोहित ने मुझे इस बारे में कभी अच्छे से तो नहीं बताया था लेकिन रोहित जब भी अपने पिताजी की बात करता तो वह हमेशा ही गुस्सा हो जाया करता था और अपने पिताजी को हर बात के लिए जिम्मेदार ठहराता था। रोहित की मम्मी ने हीं उसकी सारी जिम्मेदारियां उठाई और रोहित को मैं पिछले 5 वर्षों से जानता हूं इन 5 वर्षों में मैं रोहित को जितना जान पाया उससे तो मुझे यही लगा है कि रोहित बहुत ही अच्छा और ईमानदार लड़का है। हालांकि रोहित मुझसे उम्र में छोटा जरूर है लेकिन हम दोनों के बीच में दोस्ती बहुत ही अच्छी है मैंने रोहित को कहा रोहित मैं अब चलता हूं तुम आंटी की तबीयत का ख्याल रखो यदि कोई परेशानी होगी तो मुझे बता देना। रोहित कहने लगा ठीक है अविनाश मुझे कुछ लगा तो मैं तुम्हें बता दूंगा, मैं अपने घर लौटा तो मेरी पत्नी मुझे कहने लगी कि अविनाश आज आप सुबह ही घर से चले गए थे तो मैंने अपनी पत्नी को सारी बात बताई और कहा रोहित की मम्मी की तबीयत खराब थी जिस वजह से मुझे हॉस्पिटल जाना पड़ा। मेरी पत्नी मुझसे पूछने लगी कि आंटी को क्या हो गया था तो मैंने बताया कि उनका ब्लड प्रेशर लो हो गया था जिस वजह से उन्हें चक्कर आ गए थे लेकिन रोहित बहुत ज्यादा घबरा गया था इसलिए उसने मुझे फोन कर के बुला लिया।

loading...

जब मैं घर पर गया तो रोहित ने मुझे सारी बात बताई और हम लोग आंटी को अस्पताल लेकर गए लेकिन अब आंटी की तबीयत ठीक है। मेरी पत्नी मुझे कहने लगी कि अविनाश आप नाश्ता कर लीजिए मैंने अपनी पत्नी को कहा ठीक है मैं नाश्ता कर लेता हूं मैं बस नहा लेता हूं उसके बाद तुम मेरे लिए नाश्ता लगा देना। वह कहने लगी कि आप नहा लीजिए मैं बाथरूम में नहाने के लिए गया और थोड़ी देर बाद मैं नहा कर बाथरूम से बाहर निकला और मेरी पत्नी ने मेरे लिए नाश्ता भी लगा दिया था। मैंने नाश्ता किया और उसके बाद मैं अपने ऑफिस चला गया मेरा प्रॉपर्टी का बिजनेस है और काफी समय से मैं यही काम कर रहा हूं रोहित भी मेरे साथ प्रॉपर्टी का ही काम करता है और हम दोनों मिलकर 5 वर्षों से साथ में काम कर रहे हैं ऑफिस में कुछ और लोग भी हैं जो हमारे साथ काम कर रहे हैं। मैंने रोहित को फोन किया और पूछा आंटी की तबीयत अब कैसी है तो रोहित मुझे कहने लगा कि मम्मी की तबीयत अब पहले से ठीक है मैंने रोहित को कहा चलो तुम आज आंटी के साथ ही रहो। वह कहने लगा कि नहीं मम्मी ठीक है मैं थोड़ी देर बाद ऑफिस में आ जाऊंगा रोहित थोड़ी देर बाद ऑफिस में आ गया था हम दोनों अब अपने प्रोजेक्ट को लेकर बात करने लगे तो रोहित मुझे कहने लगा कि अविनाश मैं सोच रहा था कि उस प्रोजेक्ट को अभी हम लोग रहने देते हैं क्योंकि मुझे फिलहाल तो उसमें कोई फायदा होता नजर नहीं आ रहा है। मुझे भी लगा कि रोहित बिल्कुल ठीक कह रहा है इसलिए हम लोगों ने फिलहाल इस प्रोजेक्ट के काम को रोक दिया था रोहित मुझे कहने लगा कि मुझे अब शादी कर लेनी चाहिए क्योंकि मां को भी किसी की जरूरत है मां की देखभाल के लिए भी कोई तो मां के साथ होना चाहिए। मैंने रोहित को कहा तुम क्यों नहीं घर में किसी नौकरानी को काम पर रख लेते हो रोहित मुझे कहने लगा कि अविनाश तुम कह तो बिल्कुल ठीक रहे हो लेकिन अब मैं शादी करने के बारे में सोच रहा हूं।

मैंने रोहित को कहा रोहित तुमने यह बहुत अच्छा फैसला लिया यदि तुम ऐसा सोच रहे हो तो तुम शादी कर लो। रोहित कहने लगा लेकिन मेरे लिए समस्या यह है कि मुझे लड़की कहां से मिलेगी मैंने रोहित को कहा रोहित तुम इसकी चिंता क्यों करते हो उसका हल मेरे पास है मैं अभी पंडित जी को यहां बुला लेता हूं और वह तुम्हारे लिए कोई ना कोई लड़की का रिश्ता तो देख ही लेंगे। रोहित ने भी हामी भरी और मैंने तुरंत ही पंडित जी को फोन कर दिया जब मैंने पंडित जी को फोन किया तो वह मेरे पास तुरंत ही आ गए पंडित जी मुझे कहने लगे कि अविनाश जी बोलिए क्या काम था। मैंने उन्हें सारी बात बताई और उन्हें रोहित से भी मिलवा दिया वह मुझे कहने लगे कि अब आप यह सब मुझ पर ही छोड़ दीजिए मैं रोहित के लिए एक अच्छी लड़की ढूंढ लूंगा। पंडित जी ने उसी वक्त कई फोटो दिखाई रोहित को भी एक लड़की पसंद आ गई रोहित ने पंडित जी से कहा कि क्या आप मेरी शादी की बात इनसे कर सकते हैं तो पंडित जी कहने लगे कि क्यों नहीं मेरा तो यही काम है।

अब पंडित जी ने शादी की बात आगे बढ़ानी शुरू की तो लड़की के परिवार वाले भी मान गए और उसके बाद उनका मुझे फोन आया और वह कहने लगे कि वह लोग रोहित से मिलना चाहते हैं। मैंने कहा कि क्यों नहीं आप उन्हें ऑफिस में ही भिजवा दीजिए हम लोग ऑफिस में ही मिल लेंगे। ऑफिस में वह लोग रोहित से मिले तो उन्हें रोहित बहुत अच्छा लगा अब रोहित भी लड़की से मिलना चाहता था रोहित जब लड़की से मिला तो रोहित को लड़की पसंद आ गई और रोहित कहने लगा कि आप सगाई की बात आगे बढ़ाइए। रोहित सगाई करने के लिए तैयार हो चुका था और कुछ ही समय बाद रोहित की सगाई मीनाक्षी के साथ हो गई जब रोहित की सगाई मीनाक्षी से हुई तो रोहित बहुत खुश था। रोहित चाहता था कि जल्द से जल्द उसकी शादी मीनाक्षी के साथ हो जाए क्योंकि उसको सिर्फ अपनी मां की चिंता थी वह चाहता था कि जल्द से जल्द शादी कर के मीनाक्षी उसकी मां का ख्याल रखें इसीलिए उन दोनों की शादी जल्दी ही हो गई। अब उन दोनों की शादी हो चुकी थी और मीनाक्षी भी रोहित की मां का अच्छे से ख्याल रखने लगी थी रोहित इस बात से बहुत खुश था की मीनाक्षी उसकी मां का ख्याल रख रही है। रोहित ने मुझे एक दिन अपने घर पर बुलाया तो उस दिन मिनाक्षी ने हमारे लिए खाना बनाया हुआ था मैंने मीनाक्षी को कहा तुम खाना बहुत अच्छा बनाती हो? मिनाक्षी इस बात से खुश थी मीनाक्षी की चचेरी बहन मीनाक्षी से मिलने के लिए आई थी उसके हाव-भाव मुझे कुछ ठीक नहीं लगे। मैं और वह एक साथ बैठे हुए थे रोहित और मीनाक्षी अपने कमरे में थे मैंने जब उसकी जांघ पर हाथ रखा तो वह मुस्कुराने लगी और मेरी तरफ देखने लगी। मैंने भी अपने लंड को बाहर निकालते हुए उसे दिखाया तो उसने मेरे लंड को अपने हाथों से पकड़ा और हिलाने लगी। मुझे बहुत अच्छा लग रहा था और उसे भी बड़ा मजा आ रहा था काफी देर तक उसने मेरे लंड को ऐसे ही हिलाया जब वह मुझे कहने लगी मुझे आपके लंड को अपने मुंह में लेना है तो मैंने उसे कहा तुम मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर ले लो।

loading...

मैंने जब उस से कहा तो उसने मेरे मोटे लंड को अपने मुंह के अंदर लेते हुए चूसना शुरू किया। मुझे उसने पूरी तरीके से उत्तेजित कर दिया था मैंने उसके कपड़े उतारते हुए उसकी काली पैंटी को उतारा और उसकी चूत को मैं चाटने लगा उसकी चूत पर हल्के भूरे रंग के बाल थे उन्हें चाटने में मुझे मज़ा आ रहा था। काफी देर तक उसकी चूत चाटने के बाद उसकी चूत गिला पदार्थ बाहर की तरफ को छोड़ने लगी थी मैंने भी अपने लंड को उसकी चूत के अंदर धीरे-धीरे घुसाना शुरू किया और मेरा मोटा लंड उसकी चूत के अंदर प्रवेश हो चुका था। उसके मुंह से बड़ी तेज चीख निकलने लगी मैंने उसके दोनों पैरों को खोला और उसे कहा मुझे तुम्हें चोदने में मजा आ रहा है। कुछ देर बाद उसने मुझे अपने दोनों पैरों के बीच में जकड़ लिया और कहने लगी आपको लंड मेरी चूत के अंदर तक जा रहा है। वह बोलने लगी कल ही मैंने अपने प्रेमी का लंड अपनी चूत में लिया था लेकिन उसका लंड आप से बड़ा छोटा है।

आपके साथ में सेक्स कर के मुझे बड़ा मजा आ रहा है वह बहुत ज्यादा खुश नजर आ रही थी और मैं ज्यादा खुश था क्योंकि मैं उसके साथ संबंध बनाने में सफल हो पाया था। वह एक नंबर की जुगाड़ है और ना जाने उसके किस किस से संबंध है लेकिन मुझे उसके साथ सेक्स करने मे बड़ा मजा आया। जब हम दोनों की इच्छा पूरी तरीके से भर गई और मैंने उसकी चूत से खून बाहर निकाल कर रख दिया तो वह कहने लगी आज मैं खुश हूं और मुझे बहुत अच्छा लग रहा है। मैंने उसे कहा लेकिन तुमने तो ना जाने कितनों के साथ में शारीरिक संबंध बनाए होंगे तो वह कहने लगी हां मैंने बहुत लोगों के साथ शारीरिक संबंध बनाए हैं लेकिन जिस प्रकार से आपके साथ मैंने मजेदार और अच्छी तरीके से शारीरिक संबंध बनाए हैं ऐसा मजा मुझे कभी किसी के साथ नहीं आया मैं उम्मीद करती हूं कि जब भी हम मिलेंगे तो हम लोग ऐसे ही एक दूसरे के साथ शारीरिक सुख का मजा लेंगे। मैंने उसे कहा जरूर जब भी तुम मुझे मिलेगी तो मैं तुम्हें खुश कर दिया करूंगा लेकिन तुम्हें भी मुझे खुश करना होगा वह कहने लगी जब आप मुझे खुश करेंगे तो क्या मैं आपको खुश नहीं करूंगी।


Comments are closed.


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *